भगवा रंग के पीछे छिपी है एक विकृत मानसिकता, यह एक खास दिशा की तरफ़ ले जाने की जबरदस्ती है, ये इशारा है कि उनके दिल दिमाग में क्या है, वो क्या सोच रहे है, ये उनकी विचारधारा को प्रतिबिम्बित करता है, ये एक आइना है, जो उनके चेहरे की तस्वीर को दिखाता है । […]

Read More

  *असल में भाजपा आर एस एस की भारत माता, जो अपने हाथ में देश का तिरंगा लिए है, वो इनकी भारत माता नहीं है, इनकी भारत माता भगवा झंडा लिए है वो इनकी भारत माता हैं, इस सच को देखना आर एस एस के किसी भी झंडे में तिरंगा पकड़े भारत माता नही होगी, […]

Read More

  भगत सिंह सहित सभी क्रांतिकारीयो को अपने वतन के लिए जान देने का हौसला, लेनिन के विचारों ने दिया, लेनिन ने दुनिया भर में मजदूर और किसानों सहित पूरे मेहनतकश लोगों के लिए, एक पूरा दर्शन मार्क्स लेनिन ने दिया, उसके बाद ही देश में वेलफेयर राज्य के लिए दुनिया के पूंजीपति तैयार हुए, […]

Read More

  भाजपा आर एस एस को असल डर वामपंथी विचारधारा से ही है , जिसको खत्म करने के लिए, बहुत जल्दी हो रही है, इसलिए त्रिपुरा में खुलकर सीधे हिंसा पर उतारु हो गई है । वामपंथी विचारधारा ही भाजपा आर एस एस के झूठे राष्ट्रवाद की पोल खोलते है, आम जनता की लूट को […]

Read More

भाजपा आर एस एस ने राजनीति में राजसत्ता की हवस ने सारे सिद्धांतो को खूटी पर टॉग दिया, त्रिपुरा के चुनाव से ये साबित हो गया कि भाजपा, आर एस एस का राष्ट्रवादी एजेंडा राजसत्ता को पाने के लिए एक काल्पनिक जाल है जिससे जनता को भ्रमित करते हैं, राजसत्ता के लिए कोई सिद्धांत नहीं […]

Read More

  नरेंद्र मोदी जी की पूँजीवादी सरकार, देश के सभी संसाधनों को पूँजीपतियो को बेच देने के लिए, बहुत ही तेजी से काम कर रही है, बहुत सारी कंपनी, अटल जी की सरकार के समय बेच चुके हैं, उस समय चुनाव हारने के बाद अब फिर से देश को बेचने का मौका मिला है, जिस […]

Read More

देश के प्रधानमंत्री जी, पूरी सरकार कह रही है कि गरीब महिलाओं को मुफ्त में सिलेंडर दिये जा रहे है, 5 करोड़ो लोगों को सिलेंडर दिए गए हैं, अब 8 कई करोड़ महिलाओं को सिलेंडर देने का लक्ष्य रखा गया है, इसके प्रचार के बजह से कई राज्यों में मोदी जी, चुनाव जीतने में सफल […]

Read More

  जिस देश में राजनीति में धर्म का मिश्रण हुआ तो वहाँ पर बर्बादी की तरफ़ जाना सुनिश्चित है, आज दुनिया का कोई भी देश ऐसा नहीं है जहॉ की धरती पर केवल एक ही धर्म हो, अन्य धर्मो को मानने वाले लोग भी है, भले ही उनकी संख्या कम है, मगर होगे जरूर । […]

Read More