श्रम कानूनो में पहले केवल दो श्रेणी भी, एक परमानेन्ट और दूसरा केजुअल, इसके अलावा स्टाफ और मैनेजर अलग कैटागिरी थी । परमानेन्ट श्रमिक, आज भी है, जिसको नौकरी से बिना कारण के निकाल नहीं सकते, हर वर्ष वेतन वृद्धि करना है । केजुअल केवल सीजनल कंपनियों के लिए थे, जहॉ काम कम ज्यादा […]

Read More