Workers | कर्मचारी

ऑगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिका आई सी डी एस बचाओ : आई सी डी एस को मजबूत करो — आई सी डी एस में पोषण आहार के बदले नकद राशि देने का विरोध करो — आंगनवाड़ी केन्द्रों में पका हुआ गर्म खाना बंद करने का विरोध करो — आंगनवाड़ी की जगह नर्सरी स्कूल खोलने का विरोध करो […]

Read More

फिक्स टर्म कर्मचारी  मोदी की अगुवाई वाली भाजपा सरकार ने निश्चित अवधि के रोजगार (फिक्स्ड टर्म एम्प्लॉयमेंट) को सभी क्षेत्रों में विस्तारित करने वाली गजट अधिसूचना जारी की है। यह औद्योगिक रोजगार (स्थायी आदेश) केंद्रीय नियमों में संशोधन कर किया गया है। इसका मतलब है कि किसी भी क्षेत्र में, नियोक्ता एक कामगार को निश्चित […]

Read More

स्वास्थ्य योजना  स्वास्थ्य हमारा अधिकार है। नरेंद्र मोदी नीत वर्तमान भाजपा सरकार दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था होने का दावा करती है, लेकिन हमारे देश में, स्वास्थ्य सेवाएं केवल उन लोगों के लिए हैं जो इसकी कीमत का भुगतान कर सकते हैं। आज 195 देशों में हमारी स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली का स्थान काफी […]

Read More

श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी संशोधन बन्द करो! बिना किसी अपवाद या छूट के सभी बुनियादी श्रम कानूनों को सख्ती से लागू करना सुनिश्चित करो! नियोक्ता श्रम कानूनों को टालते क्यों हैं? एकदम सरल है! अपने मुनाफे में वृद्धि करने के लिए! लेकिन सरकार श्रम कानूनों से बचने की छूट क्यों देती है? आमतौर पर […]

Read More

रोजगार कहॉ पर है?  बीजेपी, जिसके प्रधानमंत्री का उम्मीदवार श्री नरेन्द्र मोदी थे, का मुख्य वादा था कि हर साल 1 करोड़ नौकरियां उपलब्ध करवाएंगे। पिछले 10 सालों से यूपीए के शासनकाल में रोजगार विहीन विकास के कारण जनता ने इसका दिल से स्वागत किया। इसके 4 साल बाद यह पाया कि मोदी अपने वायदे […]

Read More

  न्यूनतम वेतन कम से कम 18,000 रुपये हो! योजना मजदूरों समेत सभी मजदूरों को न्यूनतम वेतन दो! न्यूनतम वेतन को उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से जोड़ो ! कीमतों के लगातार बढ़ते जाने के कारण समूचे देश में, सभी सैक्टरों में मजदूरों के परिवारों के बजट सिकुड़ रहे हैं। अपने संघर्षों के बल पर जो थोड़ी […]

Read More

स्थायी पदों में भारी कटौती, सरकारी खर्चे में कमी, नव-उदारवादी नीतियों के महत्वपूर्ण पहलू है। नव-उदारवादी अर्थनीतियों के विश्व पूंजीवादी व्यवस्था के अन्तर्गत कार्यरत सरकारें, मजदूरियों एवं जनकल्याणकारी कार्यों में खर्चों की कटौती के जरिये वे अपने मालिकों, बड़े कारपोरेट संगठनों,  व्यवसाइयों और जनता के पैसे का उपयोग करते हुए उन्हें बड़ी-बड़ी छूट देते, इस […]

Read More

नौकरियाँ (रोजगार) कहॉ है?  हम सभी आज अपने रोजगार के लिये चिन्तित हैं। अपने रोजगार एवं बच्चों के रोजगार के लिये। अगर हम अपनी नौकरी की रक्षा नहीं कर पा रहे हैं तो, हमें अपने बच्चों की नौकरियों की चिन्ता हैं। क्या उनहें एक सम्मानजनक एवं सुरक्षित नौकरी मिलेगी? भारत के बारे में कहा जाता […]

Read More