Category: Political | राजनैतिक

Articles | July 29, 2018

नव उदारीकरण की नीतियों को, कांग्रेस ने लागू किया, बीजेपी ने आगे बढ़ाकर देश को बर्बाद किया – प्रोफेसर वासुदेव शर्मा

  भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) धोद तहसील के पार्टी सदस्यों की मीटिंग कॉमरेड लक्ष्मण सिंह शेखावत दूजोद, भगवानाराम नागवा, सबीर खां कासली, बनवारी लाल सरपंच पलथाना तथा भगवान सिंह […]

Articles | July 28, 2018

प्रदेश सरकार द्वारा 25 विभागों को ख़त्म करने के होंगे घातक परिणाम – माकपा 

भोपाल । पहले ही पिछड़े प्रदेश को और पिछाडऩे के लिए प्रदेश सरकार 55 में से 25 विभागों को ख़त्म करने जा रही है। नीति आयोग ने सुझाव भेजा है […]

Articles | July 14, 2018

राजनीति भाग -19, आर एस एस की “अखंड भारत” की परिकल्पना क्या है?

  आर एस एस, एक नक्शा दिखाता है, जिसको अखंड भारत कहते हैं, ये पूरा भारत है, ये पूरा हिंदू राष्ट्र था, हमको वापस, इस पूरे नक्से पर हिंदू राष्ट्र […]

Articles | July 12, 2018

राजनीति भाग -18, आर एस एस का “राष्ट्रवादी एजेंडा” क्या है ?

  आर एस एस राष्ट्रवादी संगठन है, ऐसा आर एस एस के लोग कहते हैं, आर एस एस का क्या राष्ट्रवाद है, इसको समझते है । यह बहुत ही महत्वपूर्ण […]

Articles | July 9, 2018

राजनीति भाग – 17, अमर्यादित भाषा, नीचा दिखाने और अपमानित करने की टुच्ची राजनीति

  यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है, इसके पीछे भी बहुत ही बड़ी राजनीति है, राजनीति के ढ़ेरो रूप है, उसमे ये भी एक अहम रूप है, जिसको आज हम […]

Articles | July 3, 2018

राजनीति भाग -16, झूठ और विरोध और जुमलो की राजनीति ( Politics of falsehood)

  यह आज की राजनीति का सबसे बड़ा सत्य है, वो खुलकर झूठ बोलते हैं, दावे के साथ झूठ बोलते हैं, उनका झूठ बोलना राजनीति का आदर्श बन गया है, […]

Articles | June 30, 2018

राजनीति भाग -15, राजनैतिक पार्टी कैसे चुने? How Choose Political Party?

  आज ये सवाल हमारी चेतना से बिल्कुल गायब हो गया है, राजनैतिक चेतना, वर्गीय चरित्र, पार्टी का राजनैतिक लक्ष्य, हमने राजनैतिक दलो के इस चरित्र को देखना और समझना […]

Articles | June 28, 2018

राजनीति भाग -14, व्यक्तिवाद और पहचान की राजनीति की थ्योरी क्या है?

  पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था का ये सबसे महत्वपूर्ण और सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला टूल है, आज हमारे देश में नरेन्द्र मोदी जी, इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं, जिसके नाम […]