Political | राजनैतिक

  आर एस एस, एक नक्शा दिखाता है, जिसको अखंड भारत कहते हैं, ये पूरा भारत है, ये पूरा हिंदू राष्ट्र था, हमको वापस, इस पूरे नक्से पर हिंदू राष्ट्र बनाना है, ये कल्पना की गई है, इस नक्से में, वर्तमान भारत के साथ में पाकिस्तान, अफगानिस्तान, भूटान, नेपाल, वर्मा, म्यामांर, श्रीलंका, तिब्बत शामिल हैं, […]

Read More

  आर एस एस राष्ट्रवादी संगठन है, ऐसा आर एस एस के लोग कहते हैं, आर एस एस का क्या राष्ट्रवाद है, इसको समझते है । यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है । आर एस एस की प्रार्थना इस प्रार्थना की रचना नरहरि नारायण भिड़े जी ने 1939 में की थी, इस प्रार्थना के पहले […]

Read More

  यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है, इसके पीछे भी बहुत ही बड़ी राजनीति है, राजनीति के ढ़ेरो रूप है, उसमे ये भी एक अहम रूप है, जिसको आज हम समझेगे । हम कुछ बड़े उदाहरण लेते हैं, जैसे राहुल गांधी को पप्पू कहना, सोनियॉ गॉधी को विदेशी कहना, नेहरू को आईयास बनाना, सीताराम येचुरी […]

Read More

  यह आज की राजनीति का सबसे बड़ा सत्य है, वो खुलकर झूठ बोलते हैं, दावे के साथ झूठ बोलते हैं, उनका झूठ बोलना राजनीति का आदर्श बन गया है, कुछ भी झूठ बोल सकते हैं । इसी प्रकार से विरोध की राजनीति हो गई है, आप की राजनैतिक दिशा क्या है, इससे कोई मतलब […]

Read More

  आज ये सवाल हमारी चेतना से बिल्कुल गायब हो गया है, राजनैतिक चेतना, वर्गीय चरित्र, पार्टी का राजनैतिक लक्ष्य, हमने राजनैतिक दलो के इस चरित्र को देखना और समझना बंद कर दिया है । यह हमारी सबसे बड़ी गलती है । हमें राजनैतिक पार्टी कैसे चुनना चाहिए इस प्रक्रिया को समझते हैं । 01. […]

Read More

  पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था का ये सबसे महत्वपूर्ण और सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला टूल है, आज हमारे देश में नरेन्द्र मोदी जी, इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं, जिसके नाम पर भाजपा ने देश में पूर्ण बहुमत हासिल किया और कई राज्यों में लगातार जीतकर सरकार बनाई । हम इस राजनीति को समझेगें और इसके […]

Read More

आदरणीय कोविंद जी, समय देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद. जैसा कि आपको विदित है, २ अप्रैल को देश भर में अनेक दलित संगठनो की और से ‘भारत बंद’ का आवाहन किया गया था और इस आवाहन को अभूतपूर्व सफलता भी प्राप्त हुई थी. बंद के आवाहन के पीछे देश-भर की दलित-आदिवासी जनता के अतिरिक्त […]

Read More

  पूँजीवादी, राजनीति का आज के समय का सबसे बड़ा हथियार ध्रुवीकरण है, जिसको बड़े समय से पूँजीवादी राजसत्ता इस्तेमाल करती रही, अंग्रेजो ने भी इसका इस्तेमाल किया, यह बहुत ही महत्वपूर्ण और कठिन विषय है, इस विषय को समझते है । साथियों, ध्रुवीकरण करने के लिए दो वर्गो में ध्रुवीकरण किया है, जिसमें एक […]

Read More