Articles

  सरकार ने जो घोषणा की है, कि हमने न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया है, जिसमें लागत पर पचास प्रतिशत मुनाफा जोड़कर बनाया गया है, इसमें गलत फार्मूला लगाकर बनाया गया, स्वामीनाथन आयोग ने C 2 +50% इस फार्मूला से न्यूनतम समर्थन मूल्य गणना करने की सिफारिश की है, जिसको सरकार ने नहीं माना है […]

Read More

  पिछले 20 वर्षो में 3 लाख से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है, पिछले कुछ समय में लगभग डेढ़ करोड़ किसानों ने खेती को छोड़कर, शहरों की तरफ पलायन किया है, पिछले कुछ वर्षो में हर वर्ष कई लाख लोग खेती छोड़ रहे है, करोड़ो खेत मजदूरों ने अपनी आजीविका चलाने के लिए शहरों […]

Read More

  साथियों, ये कृषि संकट पर नई सीरीज शुरू की जा रही है, जिसमें कई विडियो और आर्टिकल आयेगे, कोशिश होगी कि हम इस पूरी कृषि संकट को अच्छी तरह से समझ पायेगे । इसलिए हम पहले कृषि विकास की प्रक्रिया को समझते है, यही से शुरुआत करते है, इस आर्टिकल में हम प्राकृति के […]

Read More

  आर एस एस, एक नक्शा दिखाता है, जिसको अखंड भारत कहते हैं, ये पूरा भारत है, ये पूरा हिंदू राष्ट्र था, हमको वापस, इस पूरे नक्से पर हिंदू राष्ट्र बनाना है, ये कल्पना की गई है, इस नक्से में, वर्तमान भारत के साथ में पाकिस्तान, अफगानिस्तान, भूटान, नेपाल, वर्मा, म्यामांर, श्रीलंका, तिब्बत शामिल हैं, […]

Read More

  आर एस एस राष्ट्रवादी संगठन है, ऐसा आर एस एस के लोग कहते हैं, आर एस एस का क्या राष्ट्रवाद है, इसको समझते है । यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है । आर एस एस की प्रार्थना इस प्रार्थना की रचना नरहरि नारायण भिड़े जी ने 1939 में की थी, इस प्रार्थना के पहले […]

Read More

  यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है, इसके पीछे भी बहुत ही बड़ी राजनीति है, राजनीति के ढ़ेरो रूप है, उसमे ये भी एक अहम रूप है, जिसको आज हम समझेगे । हम कुछ बड़े उदाहरण लेते हैं, जैसे राहुल गांधी को पप्पू कहना, सोनियॉ गॉधी को विदेशी कहना, नेहरू को आईयास बनाना, सीताराम येचुरी […]

Read More

  यह आज की राजनीति का सबसे बड़ा सत्य है, वो खुलकर झूठ बोलते हैं, दावे के साथ झूठ बोलते हैं, उनका झूठ बोलना राजनीति का आदर्श बन गया है, कुछ भी झूठ बोल सकते हैं । इसी प्रकार से विरोध की राजनीति हो गई है, आप की राजनैतिक दिशा क्या है, इससे कोई मतलब […]

Read More

  आज ये सवाल हमारी चेतना से बिल्कुल गायब हो गया है, राजनैतिक चेतना, वर्गीय चरित्र, पार्टी का राजनैतिक लक्ष्य, हमने राजनैतिक दलो के इस चरित्र को देखना और समझना बंद कर दिया है । यह हमारी सबसे बड़ी गलती है । हमें राजनैतिक पार्टी कैसे चुनना चाहिए इस प्रक्रिया को समझते हैं । 01. […]

Read More