Month: May 2018

Articles | May 30, 2018

राजनीति भाग – 06, समाजवादी व्यवस्था का इतिहास (History of Socialism)  

  साथियों, इसमे हमें पूरी व्यवस्था के विकास को समझना है, जो दुनियां का सामाजिक विकास हुआ, समाजवादी व्यवस्था के लिए पूर्व में भी कई लोगों ने आवाज उठाई, उनकी […]

Articles | May 25, 2018

मोदी सरकार के चार साल, एक तरफ जश्न और दूसरे तरफ मातम

*मोदी सरकार ने चार साल पूरे कर लिये है, जिसमे उन्हौने जिनके लिए काम किया वो जश्न मना रहे है जिनको लूटा, बर्बाद किया, वो मातम मना रहे है, यही […]

Articles | May 24, 2018

राजनीति भाग – 05.4, पूँजीवादी व्यवस्था के नकारात्मक और सकारात्मक परिणाम ( ये चौथा और आखिरी हिस्सा हैं)

  पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था के बहुत घातक परिणाम आते हैं, जो इस पूँजीवादी व्यवस्था में निश्चित होते हैं, इसलिए पूँजीवादी व्यवस्था, इनसे भटकाने के लिए धर्म का इस्तेमाल करते है, […]

Articles | May 22, 2018

राजनीति भाग – 05.3 पूँजीवादी व्यवस्था के नकारात्मक और सकारात्मक परिणाम ( ये तीसरा हिस्सा हैं)

  पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था के बहुत घातक परिणाम आते हैं, जो इस पूँजीवादी व्यवस्था में निश्चित होते हैं, इसलिए पूँजीवादी व्यवस्था, इनसे भटकाने के लिए धर्म का इस्तेमाल करते है, […]

Articles | May 20, 2018

राजनीति भाग – 05.2 पूँजीवादी व्यवस्था के नकारात्मक और सकारात्मक परिणाम (दूसरा हिस्सा)

  पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था के बहुत घातक परिणाम आते हैं, जो इस पूँजीवादी व्यवस्था में निश्चित होते हैं, इसलिए पूँजीवादी व्यवस्था, इनसे भटकाने के लिए धर्म का इस्तेमाल करते है, […]

Articles | May 18, 2018

राजनीति भाग – 05.1 पूँजीवादी व्यवस्था के नकारात्मक और सकारात्मक परिणाम का पहला हिस्सा ।

  पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था के बहुत घातक परिणाम आते हैं, जो इस पूँजीवादी व्यवस्था में निश्चित होते हैं, इसलिए पूँजीवादी व्यवस्था, इनसे भटकाने के लिए धर्म का इस्तेमाल करते है, […]

Articles | May 15, 2018

राजनीति भाग – 04, पूँजीवाद की नई आर्थिक नीतियाँ, New Economic Policy Of Capitalism

  इन नई आर्थिक नीतियों का इजात अमेरिका ने किया, जिसको उन्हौने पूरी दुनिया पर लागू करने की योजना बनाई, जिसमे उनके तीन लक्ष्य थे, एक था उनके देश में […]

Articles | May 10, 2018

राजनीति भाग – 03, पूँजीवादी राजसत्ता और उसके अभिन्न अंग, फ्री इकोनमी क्या है ।

  पूँजीवादी राजसत्ता सत्ता कैसे बनती है हमें इस तथ्य को समझना है, पूँजीवादी व्यवस्था में कुछ पिलर होते हैं, जिनको क्रमवार लिख रहे है । पूंजीपति जिसके पास पूंजी […]