Monthly Archive: April 2018

  इसका शीर्षक पड़ते ही आपको लगता होगा कि इसमे क्या राजनीति है, ये दोनों तो मजदूरों के त्यौहार है, यह दोनों त्यौहार मेहनतकश वर्ग के ही है, फिर इसमे दो वर्गीय राजनीति कहॉ से आ गई । यह बात समझ नहीं आई, यही बात तो, आज तक समझ नहीं आई, न हमने कभी वर्गीय […]

Read More

1 मई मजदूर दिवस अमर रहे । जब मेहनतकश मेहनत करता है तब रूपया पैदा होता है । रूपया पैदा करता है, मगर वह हमेशा निर्धन, बिन रूपया, रहता है । ये कैसा खेल है जो समझ नहीं आता है । जो पैदा करता है रुपया, उस रूपया का मालिक कोई दूसरा होता है । […]

Read More

1 मई मजदूर दिवस को संकल्प लो, अपने हक के लिए लड़ेगे । अपने खून को गर्म करो, गुलामी से बाहर निकलो आज मेहनतकश वर्ग के अधिकारो को खत्म करने की खुलेआम मुहिम चल रही है, सरकारे खुले रूप से मजदूर, कर्मचारियों को गुलाम बनाने के कानून बना रहे हैं, मेहनत करने वालो का भविष्य […]

Read More

जातिवादी व्यवस्था (भाग -06) यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है यह छह भागो में लिखा जायेगा 01. पुराना इतिहास 02. आर्थिक पक्ष 03. राजनैतिक पक्ष 04. मेहनतकश वर्ग की वर्गीय एकता खत्म करती है। 05. उच्च जाति के लोगों को समझना होगा । 06. समाधान इन छह हिस्सो में इस विषय को कम से कम […]

Read More

जातिवादी व्यवस्था (भाग -05) यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है यह छह भागो में लिखा जायेगा 01. इस व्यवस्था का इतिहास 02. आर्थिक पक्ष 03. राजनैतिक पक्ष 04. मेहनतकश वर्ग की वर्गीय एकता खत्म करती है। 05. उच्च जाति के लोगों को समझना होगा । 06. समाधान इन छह हिस्सो में इस विषय को कम […]

Read More

जातिवादी व्यवस्था (भाग -04) यह बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है यह छह भागो में लिखा जायेगा 01. पुराना इतिहास 02. आर्थिक पक्ष 03. राजनैतिक पक्ष 04. मेहनतकश वर्ग की वर्गीय एकता खत्म करती है। 05. उच्च जाति के लोगों को समझना होगा । 06. समाधान इन छह हिस्सो में इस विषय को कम से कम […]

Read More

सरकार और भाजपा की दलित विरोधी मानसिकता  के विरोध में एकजुट हों नागरिक, भाइयों, बहिनो सर्वोच्च न्यायालय द्धारा अनूसूचित जाति-जनजाति उत्पीडऩ निरोधक कानून को निष्प्रभावी बना देने के निर्णय के विरोध में दलित उत्पीडि़त तबकों में नाराजगी का इजहार होना स्वभाविक था। यह इसलिए भी हुआ क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय की यह टिपणी अतार्किक और समूचे […]

Read More

भगवा रंग के पीछे छिपी है एक विकृत मानसिकता, यह एक खास दिशा की तरफ़ ले जाने की जबरदस्ती है, ये इशारा है कि उनके दिल दिमाग में क्या है, वो क्या सोच रहे है, ये उनकी विचारधारा को प्रतिबिम्बित करता है, ये एक आइना है, जो उनके चेहरे की तस्वीर को दिखाता है । […]

Read More