Articles, Youth | नौजवान

मोदी जी ने, बेरोजगार नौजवान को दी कई सौगाते, आप भी पढ़े ।

Admin

Admin

 

परमानेन्ट नौकरी खत्म ठेकेदारी प्रथा में काम करना है,या ट्रेनिंग या अप्रेन्टिश में काम करना है, या फिक्स टर्म में काम करेंगे, दो साल या तीन साल में नौकरी से निकाल दिया जायेगा । फिर नई नौकरी तलाशो ।
वेतन बढ़ाने की बात की, घर पर कोई बीमार है, और की छुट्टी मारी, या ज्यादा दिन छुट्टी मारी, काम के बारे में बात की या कुछ कहा या बहस कर ली, जितना काम दिया उतना नहीं किया या करने के लिए मना किया, तो दूसरे दिन से नौकरी से निकाल दिया जायेगा । यश सर के अलावा कुछ नहीं बोलना है, यदि आप किसी मजदूर आन्दोलन में गए तो नौकरी से निकाल दिया जायेगा, यदि कंपनी ने वेतन लेट दिया, या दो चार सौ कम दिया, आपने पूछ लिया तो आपको नौकरी से निकाल दिया जायेगा । यदि आपने न्यूनतम वेतन के हिसाब से बात की, तो भी नौकरी से निकाल दिया जायेगा, यदि ESI कार्ड मॉगा तो भी आपको भगाया जा सकता है । यदि कंपनी ने आपको रिजाइन लिखने के लिए कहा और आप नहीं मॉने तो आपको वेतन भी नहीं मिलेगा, नौकरी से भगाने का काम कर दिया जाएगा । यदि ओवरटाइम मॉगा तो ऐसे आदमी को तुरंत ही भगा दिया जाएगा ।
आई टी आई करने वाले ठेका मजदूर, पॉलिटिकनिक करने वाले ऑपरेटर, और डिग्री करने वाले( B Tech ) सुपरवाइज़र, नौकरी की गारंटी किसी की नहीं किसी को किसी भी समय नौकरी से निकाला जा सकता है । लोन बगैरा सावधानी से ले । नौकरी से कभी भी निकाला जा सकता है, सब बच्चों का डिमोशन कर दिया गया ।

जितना चापलूसी और गुलामी करोगे, उतनी ज्यादा दिन तक नौकरी चलेगी, यह योजना केवल मैनेजर और स्टाफ के लिए है, ये वर्कर्स पर लागू नही होगी । वर्कर्स को तो निकालना ही है । आप का भी नंबर आयेगा, इंतजार करो ।

ऐसे ही जय श्री राम करते रहे रहो, परमानेन्ट नौकरी की बात कभी मत करना, अंधभक्त बने रहो, अकल बिल्कुल नहीं लगानी है, ऐसे ही जिंदगी निकल जाएगी, भगवान ने तुम्हारी किस्मत में यही लिखा है, ये सब भगवान कर रहा है, इसके लिए भगवान ही जिम्मेदार है, हम इसमे कुछ नहीं कर सकते, भजन करो, सुंदर कांड करो, हनुमान चलीसा पढ़ो, और जय श्री राम कहो और मस्त रहो ।
बटन कमल का दबाना है, सवाल भगवान से पूछना है । यही तुम्हारे अच्छे दिन है, रोजगार की बात नहीं करना है, काम नहीं मिल रहा है तो पकौड़े बेचो । यही तुम्हारा राष्ट्रधर्म है, यही राजधर्म है ।

 

Tags: ,

Leave a Comment