Our Political View | हमारी राजनैतिक समझ

हमारे देश के प्रत्येक नागरिक को राजनैतिक समझ को जानना, समझना और राजनैतिक समझ रखना, उस पर चर्चा करना और उसके अच्छे बुरे तर्कों को समझना, हम सभी क लिए अवश्यक है | इसके बाद उसको स्वयं अपनी समझ बनाना कि वह किस राजनैतिक विचार के साथ जाएगा, अपने जीवन में किस राजनैतिक धरा को स्वीकार करेगा, क्योकि पूरे देश में जो भी घटनाएँ घटती है, उसके पीछे एक सोची समझी राजनैतिक चेतना होती है, जो हमारे जीवन की पूरी दशा तय करती है | राजनैतिक सत्ता ही देश बनाती है, और यह निर्भर करता है आम जनता कि समझ पर

Purpose | वेबसाइट बनाने का उद्देश

यह वेबसाइट बनाने का उद्देश आप सभी को वामपंथी विचारधारा से परिचित करना है | हम आपको बताना चाहते है की, वामपंथी विचारधारा क्या है ? वामपंथी क्या चाहते हैं ? वामपंथी विचारधारा की विभिन्न क्षेत्रो में क्या समझ है ? राजनैतिक समझ क्या है ? राजनीती में किन नीतियों पर चलना चाहते हैं ? कैसे भारत का निर्माण करना चाहते हैं ? इनकी भ्रष्टाचार के बारे में क्या समझ है ? जातिवाद, धर्म, रीती-रिवाज, सामाजिक बुराइयाँ, कूटनीतियाँ, अंध-विश्वास जैसे सवालों पर हम क्या सोचते हैं | इस विचार धारा का बुनियादी नियम क्या है, इस प्रकार न जाने कितने अन समझे और सन सुलझे सवाल वामपंथ के बारे में नौजवान के मन में हैं |

वामपंथी विचारधारा क्या है ?

नौजवानो को इस विचारधारा को समझना अत्यंत आवश्यक है, किसी भी देश में नौजवान देश के विकास की धुरी होते है, उनकी समझ, लगन, विचार ही राष्ट्र बनाते हैं, देख में अभी खूब लेफ्ट राइट चल रहा है, चाहे केरला, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, बिहार, पूरे देश में, एक तरफ वामपंथी विचारधारा प्रखर हो रही है, वहीं दूसरी पूंजीवादी व्यवस्था को कुचलने की कोशिश में लगी है, आज देश की नई पीढ़ी बहुत ही कम शब्दो में इसको समझना चाहती है, अब हम इसके मुख्य विषय पर बात करते है ।नौजवानो को इस विचारधारा को समझना अत्यंत आवश्यक है, किसी भी देश में नौजवान देश के विकास की धुरी होते है, उनकी समझ, लगन, विचार ही राष्ट्र बनाते हैं, देख में अभी खूब लेफ्ट राइट चल रहा है, चाहे केरला, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, बिहार, पूरे देश में, एक तरफ वामपंथी विचारधारा प्रखर हो रही है, वहीं दूसरी पूंजीवादी व्यवस्था को कुचलने की कोशिश में लगी है, आज देश की नई पीढ़ी बहुत ही कम शब्दो में इसको समझना चाहती है, अब हम इसके मुख्य विषय पर बात करते है । वामपंथी विचारधारा क्या है । 

Latest Articles

राजनीति भाग -12, समाजवादी व्यवस्था की नीतियाँ और आर्थिक नीतियाँ Economice Policy of Socialism

  पूँजीवादी व्यवस्था और समाजवादी व्यवस्था में सब कुछ बिल्कुल अलग है, इसमें दोनों व्यवस्थाओ में अपने वर्गीय हित के लिए काम करना सुनिश्चित है, दोनों में यह स्पष्ट दिखाता है । इसी आधार पर दोनों की आर्थिक नीतियाँ अलग अलग है । मुख्य रूप से कुछ तथ्य है, जैसे पू्ंजीवादी व्यवस्था का मुख्य आधार […]

राजनीति भाग -11.2, हमारे देश में कम्युनिस्ट क्या चाहते हैं ? दूसरा हिस्सा What Do The Communists Want?

  07. किसानों के अब तक के सारे कर्जे माफ करो, कोई भी किन्तु परन्तु नहीं, इसके बाद उनकी हर फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करो, ऐसा कानून बनाओ, इससे कम दर पर कोई भी नहीं खरीदेगा, इसके लिए तगड़ा कानून बनाओ, इसके साथ में लागत कम करने के लिए खाद बीज कीटनाशक को […]

राजनीति भाग -11.2, हमारे देश में कम्युनिस्ट क्या चाहते हैं ? दूसरा हिस्सा (What Do The Communist Want?)

  07. किसानों के अब तक के सारे कर्जे माफ करो, कोई भी किन्तु परन्तु नहीं, इसके बाद उनकी हर फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करो, ऐसा कानून बनाओ, इससे कम दर पर कोई भी नहीं खरीदेगा, इसके लिए तगड़ा कानून बनाओ, इसके साथ में लागत कम करने के लिए खाद बीज कीटनाशक को […]

राजनीति भाग -11.1, हमारे देश में कम्युनिस्ट क्या चाहते हैं ? पहला हिस्सा ( What Do The Communists Want?)

  आज हम बहुत ही गम्भीर विषय पर बात कर रहे हैं, आज हमारे देश में कम्युनिस्ट विचारधारा को इस प्रकार से प्रस्तुत किया जा रहा है जैसे ये लोग देश विरोधी ताकते हैं और देशद्रोही लोग हैं, देश को बर्बाद करना चाहते हैं, देश के अंदर इस्लाम लाना चाहते हैं, पाकिस्तान और चीन के […]

राजनीति भाग -10, भौतिकवादी दर्शन में, मनुष्य के जीवन जीने की पद्धति (Method Of Life in Materialistic Philosophy)

  भौतिकवादी दर्शन में मनुष्य के पूरे जीवन जीने की पद्धति है, जिससे मनुष्य बहुत ही खुशहाली से जीवन जीता है । जिस प्रकार से भाववादी दर्शन मैं जीवन जीने की पद्धति है उसी प्रकार से भौतिकवादी दर्शन के अंदर भी मनुष्य के जीवन जीने की पद्धति है, जिसको आज हम समझेगे । भौतिकवादी दर्शन […]

राजनीति भाग-09, मार्क्स के विचारों की आलोचना और आज की स्तिथि (Criticism of Marx’s Theory & Current Political Scenario)

उस समय के जो पूँजीवादी राजसत्ता के दार्शनिक थे, उन्हौने मार्क्स की थ्योरी की आलोचना की और उन्हौने पूँजीवादी सुधारो के बारे में बताया और यह समझाने की कोशिश की, कि अब दुनियां में क्रांति नहीं हो सकती, और मेहनतकश वर्ग अब अलगाव नहीं करेगा, क्योंकि पूँजीवादी राजनैतिक व्यवस्था ने बहुत सारे सुधार किये है, […]

राजनीति भाग – 08, वर्ग संघर्ष और मनुष्य के मस्तिष्क पर कब्जा (Class Struggle & Human Brain Control)

  हमारा इतिहास, वर्ग संघर्ष का इतिहास है, ये कॉल मार्क्स ने अपने रिसर्च में कहा, उन्हौने इतिहास में समाज के विकास की प्रक्रिया को समझते हुए, इसका भौतिक विश्लेषण किया, पूरे इतिहास में हर जगह दो वर्ग है, प्राचीन समाज में स्वामी और दास, इसके बाद भू स्वामी और खेत मजदूर, इसके बाद जमींदार […]

राजनीति भाग -07, कॉल मार्क्स की थ्योरी, ऐतिहासिक भौतिकवाद, द्वंदात्मक भौतिकवाद ( Historical & Dialectical Materialism)

  समाजवादी व्यवस्था की थ्योरी कॉल मार्क्स ने लिखी, उन्हौने दुनियां के मेहनत करने वालो एक हो का नारा दिया, उन्हौने मजदूर वर्ग की राजसत्ता कैसे कायम होगी, उसकी पूरी रूपरेखा तैयार की, उन्हौने कहा “अभी तक के दार्शनिको ने दुनियां का विश्लेषण किया है जबकि ज़रुरत दुनियां को बदलने की है”, ये शब्द उनके […]