Our Political View | हमारी राजनैतिक समझ

हमारे देश के प्रत्येक नागरिक को राजनैतिक समझ को जानना, समझना और राजनैतिक समझ रखना, उस पर चर्चा करना और उसके अच्छे बुरे तर्कों को समझना, हम सभी क लिए अवश्यक है | इसके बाद उसको स्वयं अपनी समझ बनाना कि वह किस राजनैतिक विचार के साथ जाएगा, अपने जीवन में किस राजनैतिक धरा को स्वीकार करेगा, क्योकि पूरे देश में जो भी घटनाएँ घटती है, उसके पीछे एक सोची समझी राजनैतिक चेतना होती है, जो हमारे जीवन की पूरी दशा तय करती है | राजनैतिक सत्ता ही देश बनाती है, और यह निर्भर करता है आम जनता कि समझ पर

Purpose | वेबसाइट बनाने का उद्देश

यह वेबसाइट बनाने का उद्देश आप सभी को वामपंथी विचारधारा से परिचित करना है | हम आपको बताना चाहते है की, वामपंथी विचारधारा क्या है ? वामपंथी क्या चाहते हैं ? वामपंथी विचारधारा की विभिन्न क्षेत्रो में क्या समझ है ? राजनैतिक समझ क्या है ? राजनीती में किन नीतियों पर चलना चाहते हैं ? कैसे भारत का निर्माण करना चाहते हैं ? इनकी भ्रष्टाचार के बारे में क्या समझ है ? जातिवाद, धर्म, रीती-रिवाज, सामाजिक बुराइयाँ, कूटनीतियाँ, अंध-विश्वास जैसे सवालों पर हम क्या सोचते हैं | इस विचार धारा का बुनियादी नियम क्या है, इस प्रकार न जाने कितने अन समझे और सन सुलझे सवाल वामपंथ के बारे में नौजवान के मन में हैं |

वामपंथी विचारधारा क्या है ?

नौजवानो को इस विचारधारा को समझना अत्यंत आवश्यक है, किसी भी देश में नौजवान देश के विकास की धुरी होते है, उनकी समझ, लगन, विचार ही राष्ट्र बनाते हैं, देख में अभी खूब लेफ्ट राइट चल रहा है, चाहे केरला, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, बिहार, पूरे देश में, एक तरफ वामपंथी विचारधारा प्रखर हो रही है, वहीं दूसरी पूंजीवादी व्यवस्था को कुचलने की कोशिश में लगी है, आज देश की नई पीढ़ी बहुत ही कम शब्दो में इसको समझना चाहती है, अब हम इसके मुख्य विषय पर बात करते है ।नौजवानो को इस विचारधारा को समझना अत्यंत आवश्यक है, किसी भी देश में नौजवान देश के विकास की धुरी होते है, उनकी समझ, लगन, विचार ही राष्ट्र बनाते हैं, देख में अभी खूब लेफ्ट राइट चल रहा है, चाहे केरला, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, बिहार, पूरे देश में, एक तरफ वामपंथी विचारधारा प्रखर हो रही है, वहीं दूसरी पूंजीवादी व्यवस्था को कुचलने की कोशिश में लगी है, आज देश की नई पीढ़ी बहुत ही कम शब्दो में इसको समझना चाहती है, अब हम इसके मुख्य विषय पर बात करते है । वामपंथी विचारधारा क्या है । 

Latest Articles

श्रम कानूनों में परिवर्तन, नौजवानों का वर्तमान और भविष्य दोनों बर्बाद

श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी संशोधन बन्द करो! बिना किसी अपवाद या छूट के सभी बुनियादी श्रम कानूनों को सख्ती से लागू करना सुनिश्चित करो! नियोक्ता श्रम कानूनों को टालते क्यों हैं? एकदम सरल है! अपने मुनाफे में वृद्धि करने के लिए! लेकिन सरकार श्रम कानूनों से बचने की छूट क्यों देती है? आमतौर पर […]

नरेंद्र मोदी जी, रोजगार कहॉ है ? आपने रोजगार पैदा नहीं किये, उल्टे खत्म किये । देश के नौजवानों को जबाब दो ।

रोजगार कहॉ पर है?  बीजेपी, जिसके प्रधानमंत्री का उम्मीदवार श्री नरेन्द्र मोदी थे, का मुख्य वादा था कि हर साल 1 करोड़ नौकरियां उपलब्ध करवाएंगे। पिछले 10 सालों से यूपीए के शासनकाल में रोजगार विहीन विकास के कारण जनता ने इसका दिल से स्वागत किया। इसके 4 साल बाद यह पाया कि मोदी अपने वायदे […]

न्यूनतम वेतन, 18000 रुपये महीना, क्यों होना चाहिए ? इसका फार्मूला क्या है ?

  न्यूनतम वेतन कम से कम 18,000 रुपये हो! योजना मजदूरों समेत सभी मजदूरों को न्यूनतम वेतन दो! न्यूनतम वेतन को उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से जोड़ो ! कीमतों के लगातार बढ़ते जाने के कारण समूचे देश में, सभी सैक्टरों में मजदूरों के परिवारों के बजट सिकुड़ रहे हैं। अपने संघर्षों के बल पर जो थोड़ी […]

नरेंद्र मोदी जी की, केन्द्र की सरकार, ऐसा क्यों नहीं करती है ? – के. हेमलता जी

स्थायी पदों में भारी कटौती, सरकारी खर्चे में कमी, नव-उदारवादी नीतियों के महत्वपूर्ण पहलू है। नव-उदारवादी अर्थनीतियों के विश्व पूंजीवादी व्यवस्था के अन्तर्गत कार्यरत सरकारें, मजदूरियों एवं जनकल्याणकारी कार्यों में खर्चों की कटौती के जरिये वे अपने मालिकों, बड़े कारपोरेट संगठनों,  व्यवसाइयों और जनता के पैसे का उपयोग करते हुए उन्हें बड़ी-बड़ी छूट देते, इस […]

जनता के पैसे से पार्टी प्रचार : असाधारण निर्लज्जता – माकपा 

भोपाल। मध्यप्रदेश में जारी कथित जन आशीर्वाद यात्राओं में सरकारी धन और प्रशासनिक अमले का दुरूपयोग संसदीय लोकतंत्र की सारी मर्यादाओं और कानूनों का उल्लंघन है। ऐसा करने के लिए भाजपा के विरुद्ध कार्यवाही की जानी चाहिए तथा सारा खर्च उससे वसूल किया जाना चाहिए। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव मंडल की बैठक ने इसे […]

नरेंद्र मोदी जी, सालाना दो करोड़ नौकरी कहॉ है ?

नौकरियाँ (रोजगार) कहॉ है?  हम सभी आज अपने रोजगार के लिये चिन्तित हैं। अपने रोजगार एवं बच्चों के रोजगार के लिये। अगर हम अपनी नौकरी की रक्षा नहीं कर पा रहे हैं तो, हमें अपने बच्चों की नौकरियों की चिन्ता हैं। क्या उनहें एक सम्मानजनक एवं सुरक्षित नौकरी मिलेगी? भारत के बारे में कहा जाता […]

मंडीदीप सहित पूरे भोपाल में हड़ताल का व्यापक असर

    7 अगस्त 18 को ऑल इंडिया रोड ट्रांसपोर्ट वर्कर्स फैडरेशन की देशव्यापी हड़ताल का व्यापक असर मंडीदीप, औब्दुल्लागंज, सहित पूरे भोपाल में रहा, सुबह से ही बड़ी संख्या में ड्राईवर, कन्डेक्टर, बस मालिक, सड़को पर विरोध करते दिखे, केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और इन मोटर व्हीकल एक्ट के संशोधनो को […]

9 अगस्त को किसानों का सम्पूर्ण कर्ज माफी व स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश लागू कराने की मांग को लेकर ऐतिहासिक ‘जेल भरो आंदोलन’ होगा – पेमाराम

  अखिल भारतीय किसान सभा की ओर से नौ अगस्त को प्रस्तावित जेल भरो आन्दोलन को सफल बनाने को लेकर किसान सभा पदाधिकारियों की ओर से रविवार को भी गांवों में किसानों से जनसंपर्क किया गया व आंदोलन में अधिकाधिक संख्या में भागीदारी निभाने का आह्वान किया गया । रविवार को किसान सभा के पदाधिकारियों […]